एक ऐसा भी स्कूल जहाँ खुलेआम हज़ारों में बेची जाती हैं किताबें__आप भी जाने पूरी हकीकत

कालपी (जालौन) शिवांग शुक्ला – नगर में प्रसिद्ध सर्वोदय शिशु मंदिर नामक स्कूल एक ऐसा स्कूल है जहाँ तकरीबन पिछले 30 सालों से शिक्षण कार्य सुचारु रूप से चल रहा है, वहीं दूसरी ओर शिक्षण कार्य के साथ उगाही का क्रम भी विगत 30 वर्षों से निरंतर चला आ रहा है।

आपने अमूमन दुकानदार को किताबें बेचते देखा होगा किन्तु सर्वोदय स्कूल एक ऐसा स्कूल है जहां लगभग 300 रुपये प्रति किताब की दर से बच्चों को स्कूल द्वारा ही बेची जाती है, यह किताबें बाजारों में उपलब्ध ना होकर कानपुर के प्रकाशनों की होती हैं, वह इसलिए ताकि वे किताबें कहीं और ना मिले व अभिभावको को मजबूरन किताबें स्कूल से ही खरीदनी पड़ें। जबकि किसी स्कूल को यह अधिकार नही हैं कि वह स्कूल में किताबें या स्टेशनरी व ड्रेस आदि बेचे।

अब आप अंदाजा लगा सकते हैं कि हजार की तादाद में पढ़ने वाले बच्चों से यह स्कूल अमूमन 24 लाख रुपये तक मात्र जुलाई माह में अंदर कर लेता है।

अब बात करते हैं प्रधानाचार्या जी की, कागजों पर तो प्रधानाचार्या जी निश्चित तौर स्वर्गीय लाल लाल सुखनन्दन लाल दीक्षित की पुत्रवधू आभा दीक्षित हैं परंतु हकीकत में विगत 25 वर्षों से अधिक अर्से से प्रधानाचार्या के तौर पर प्राइमरी पाठशाला की वर्तमान शिक्षिका शैल विश्नोई ही स्कूल में प्रधानाचार्या का पदभार सम्भालती हैं व शैल विश्नोई ही आभा दीक्षित के हस्ताक्षर भी करती हैं, व हकीकत में आभा दीक्षित का निवास कानपुर में है जो कि सालों में एक बार स्कूल के मुआयने हेतु ही स्कूल आती हैं। जबकि कानूनन यह पूरी तरह से वर्जित है, कोई भी सरकारी स्कूल की शिक्षिका ना तो किसी प्राइवेट शिक्षण संस्थान में अध्यापन कार्य कर सकती है ना ही कोई पदभार ग्रहण कर सकती है।

इस तरह के गोरखधंधों पर लगाम लगाने की ना तो कभी किसी आला अधिकारी ने कोशिश की है और ना ही शिक्षा विभाग ने सुध ली है, व ए०बी०एस०ए० तो आंखें मूंदकर ही बैठे हैं, वे ऐसी किसी खबर से जानकर भी अनजान बने हुए हैं।

इस तरह के गोरखधंधे को मद्देनजर रखते हुए क्या समझा जाये, क्या इस बात में तनिक भी सच्चाई नज़र आती है कि 25 बरस से इस गोरखधंधे की महज़ आधा किलोमीटर की दूरी पर बैठे ए०बी०एस०ए० को क्या इसकी जानकारी नही होगी?

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s