​अतिक्रमण अभियान में गरीबों पर सितम

अफसरों को नहीं दिखती ऊँची बनी इमारतें
योगी राज में भी दबंगों पर अफसर दिखा रहे रहम
भाजपाइयों की चुप्पी समझ से परे
Manoj sharma

ऋषी न्यूज मुख्य संवाद ।  निजाम बदला तो लगा कि अफसरों के काम काज करने के तौर तरीके भी बदल जायेंगे। ये कल्पना कोरी साबित हुई और एक बार फिर गरीबों पर सितम ढहाने का जो सिलसिला अतिक्रमण हटाओ अभियान में चार दिन पूर्व शुरू हुआ वह बुधवार को भी जारी रहा। स्थानीय प्रशासन ने अतिक्रमण हटाने के नाम पर अपनी कार्यवाही में सबसे छोटे तबके को ही रखा।

शहर में पीली कोठी के आगे बस स्टैंड तक अभियान चलाया गया। इस अभियान में कोई मानक का निर्धारण नहीं था। गरीब है और साहब के आगे गिड़गिड़ाने आ गया उसका सब कुछ उजड़ गया। जो दबंग और बड़े आदमी है उन पर नरमी दिखाई गई। पालिका का बुल्डोजर खूब गरज रहा है। प्रशासन की इस कार्यवाई ने इतना तो स्पष्ट कर दिया की सत्ता पर कोई आसीन हो चलेगी हमारी ही। बीते दिनों करमेर रोड पर पान की एक दुकान का सब कुछ हटवा दिया और कहीं पर कुछ भी नहीं हटाया। दुकानदार ने कहा कि अफसर किसी की सुनते ही कहाँ है। नाली पर जो कब्ज़ा किये है उन्हें भी नहीं हटवा पाये।


बिना बही के चल रहे अफसरों को सुननी पड़ी खरी खोटी

अतिक्रमण अभियान में मानक का कोई निर्धारण नहीं है। यही वजह है कि टीम नक्सा लेकर भी नहीं चल रही। यही लापरवाही आज विवाद की जड़ बन गई। पीली कोठी के आगे कामरेड कैलाश पाठक से अभियान में चल रहे अधिकारियों से हॉट टाक हो गई। उन्होंने कहा कि ये हमारी जमीन है इस पर बुल्डोजर नहीं चलेगा। आखिर में प्रशासन बैकफुट पर नजर आया।
नालों पर मकान भी देख लो साहिब

शहर में नालों पर ऊँची ऊँची इमारते खड़ी हो गई। सरकारी जमीनों पर कब्ज़ा कर लिया गया लेकिन अफसरों को कुछ नहीं दिख रहा क्योंकि वह पहुँच वाले लोग है। गोपालगंज में तो कई शिकायतें हुई लेकिन कोई असर नहीं। जिला परिषद रोड पर एक कोठी का अतिक्रमण भी नहीं दिख रहा। बीच बाजार में एक लाज की इमारत भी नहीं दिख रही। शहर भर में दर्जनों इमारते है जो प्रशासन और शासन को सीधे चुनौती दे रही है।
कमिश्नर ने तो चेताया भी था

तत्कालीन कमिश्नर केराम मोहन राव ने रामकुंड का जब जिले के दौरे के दौरान निरीक्षण किया था तो डीएम को बताया था कि यहाँ पर जमीं न पर कब्ज़ा हो रहा है। उन्होंने कहा था कि जब हम यहाँ एसडीएम हुआ करते थे तब कुंड के आस् पास बहुत जमीन थी जिस पर अब कब्जा हो गया। जाँच के आदेश भी दिए लेक8न कोई फायदा नहीं हुआ।
बीजेपी के नेता अपने सीएम की करा रहे हसी

प्रशासन की मनमानी का भाजपा नेताओं की ओर से भी कोई विरोध नहीं किया जा रहा। गरीबों पर एक तरफ़ा सितम ढहाया जा रहा । इससे उनके सीएम की साफ छवि पर आरोप लगने लगे है।

Advertisements

One thought on “​अतिक्रमण अभियान में गरीबों पर सितम

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s